टेक्नोलॉजी
Trending

डेटा चोरी में भारत तीसरे नंबर पर, इस अटैक से है खतरा

साइबर क्राइम के मामले अक्सर सुनने को मिलते हैं. कई देशों में ऐसी घटना के मामले सामने आते हैं. वहीं भारत में भी साइबर क्राइम की घटनाएं बढ़ती ही जा रही हैं. इसी का एक और मामला सामने आया है. जानकारी के अनुसार, इसका एक उदाहरण साइबर सिक्योरिटी कंपनी Symantec की एक रिपोर्ट में सामने आया है. आपको बता दें रिपोर्ट के अनुसार, इसी वर्ष के पिछले माह में अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया के बाद भारतीय यूजर्स सबसे ज्यादा फॉमजैकिंग अटैक्स से प्रभावित हैं. इसके अटैक से आपका डेटा भी चोरी हो सकता है.

इसके बारे में बता दें कि इस तरह के हमलों में साइबरक्रिमिनल किसी भी वेबसाइट की JavaScript फाइल्स को बदलने का तरीका ढूंढते हैं. ये हैकर्स जो मालवेयर से प्रभावित JavaScript कोड वेबसाइट पर डालते हैं जिससे वो यूजर का कार्ड डाटा समेत अन्य निजी जानकारी चोरी कर सके. इसी बारे में Symantec ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि औसत रूप से इस तरह से प्रभावित वेबसाइट्स 46 दिन तक प्रभावित रहती हैं. साल 2019 के पहले 6 महीनों में 52 फीसद फॉर्मजैकिंग अटैक्स अमेरिका में और 8.1 फीसद अटैक्स ऑस्ट्रेलिया के यूजर्स पर हुए हैं. इतना ही नहीं अब इस लिस्ट में भारत तीसरे नंबर पर आगया है.

उनकी रिपोर्ट के अनुसार, यहां पर इस तरह के अटैक्स 6 फीसद यूजर्स पर हुए हैं. इस रिपोर्ट कि मानें तो अभी तक Ticketmaster, British Airways, Feedify और Newegg जैसी वेबसाइट्स पर अटैक किया जा चुका है. वहीं इस बारे में रिसर्चर Candid Wueest का कहना है कि हर महीने अलग-अलग वेबसाइट्स पर फॉर्मजैकिंग अटैक्स होते हैं. इससे वो लाखों-करोड़ों रुपये भी बनाते हैं. इतना ही नहीं, यूजर्स अक्सर इस बात पर गौर नहीं करते हैं कि वो फॉर्मजैकिंग अटैक के शिकार हो रहे हैं क्योंकि इस तरह के अटैक ट्रस्टेड ऑनलाइन स्टोर पर ही किए जाते हैं. ऐसे में इससे बचने के लिए सुरक्षा समाधान होना जरुरी है जिससे यूजर्स को इस अटैक से बचाया जा सके.

 

Tags
Show More

Shivakanya

Just a tech-loving girl, who loves to program and write. 😉

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
Close